तब्लीगी जमात से जुड़े 816 लोगों की हुई पहचान, जानें क्या है पूरा विवाद

दिल्ली का निजामुद्दीन इलाका चर्चा में हैं. इसकी वजह है इस इलाके में हुई धर्मिक सभा और उसमें हजारों की संख्या में मौजूद लोग. दरअसल दिल्ली के निज़ामुद्दीन में एक धार्मिक जलसे के आयोजन के बाद कई लोगों में कोरोना वायरस के लक्षण दिखे. जानकारी मिलते ही दिल्ली पुलिस ने इलाके की घेराबंदी की और इन लोगों को टेस्ट के लिए ले गए.

निजामुद्दीन स्थित तब्लीगी जमात का मामला सामने आने के बाद दिल्ली पुलिस ने इस मामले में ऐसे लोगों की तलाश शुरू कर दी थी जो इन दिनों जमात के संपर्क में आए थे. दिल्ली पुलिस ने इस बारे में जमात के कई लोगों से पूछताछ की और उनके दस्तावेज आदि भी चेक किए. इस आधार पर दिल्ली पुलिस की अनेक टीमों ने राजधानी के अलग-अलग स्थानों से कुल 816 ऐसे लोगों की पहचान की है जो इन दिनों जमात के संपर्क में आए थे.

दिल्ली पुलिस के एक आला अधिकारी ने बताया कि तब्लीगी जमात में इन दिनों काफी संख्या में विदेशी आए हुए थे और दिल्ली के सैंकड़ों लोग भी तब्लीगी जमात में बराबर आ जा रहे थे. ऐसे में लोगों की पहचान करना अत्यंत आवश्यक था क्योंकि प्रशासन को शक था कि जो लोग इन दोनों जमात के संपर्क में रहे हैं उन्हें भी करोना वायरस हो सकता है. जमात के लोगों से की गई पूछताछ और दस्तावेजों के आधार पर दिल्ली पुलिस ने गुरुवार सुबह तक कुल 816 ऐसे लोगों की पहचान की है जो जमात के संपर्क में थे. पुलिस के एक आला अधिकारी ने बताया कि इन सभी का मेडिकल परीक्षण कराया जा रहा है और जरूरत पड़ने पर इन लोगों को क्वॉरंटीन भी किया जाएगा.

इसी बीच तेलंगाना में 6 लोगों की मौत हुई, बताया जा रहा है कि ये सभी इस धार्मिक सभा में मौजूद थे. मलेशिया और इंडोनेशिया समेत अन्य मुल्कों से इस धार्मिक सभा में हिस्सा लेने आए लोग कोरोना के बढ़ते संक्रमण के बीच अब सबसे बड़ी चिंता का विषय बन गए हैं. ऐसे में तब्लीगी जमात के जिम्मेदारों के खिलाफ दिल्ली सरकार ने FIR के आदेश भी दे दिए हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Show Buttons
Hide Buttons
%d bloggers like this: