PM मोदी ने धोनी को लिखी भावुक कर देने वाली चिट्ठी

प्रधानमत्री नरेंद्र मोदी ने भारतीय क्रिकेट के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के रिटायरमेंट पर भावुक कर देने वाली चिट्ठी लिखी है. इस चिट्ठी में प्रधानमंत्री ने उनके भारतीय क्रिकेट में योगदान को याद करते हुए उन्हें आने वाली पीढ़ियों के लिए प्रेरणा बताया है. प्रधानमंत्री ने धोनी को न्यू इंडिया का एक ऐसा उदाहरण करार दिया है, जहां परिवार किसी युवा का भाग्य तय नहीं करता, बल्कि युवा खुद अपना भाग्य बनाता है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने महेंद्र सिंह धोनी के संन्यास के फैसले पर कहा, ‘इससे 130 करोड़ भारतीय निराश हुए, लेकिन वे पिछले डेढ़ दशक में भारतीय क्रिकेट को दिए गए योगदान को लेकर आपके आभारी हैं. एक तरफ आपके क्रिकेट करियर के आंकड़ों के जरिए देखें तो आप भारत को वर्ल्ड चार्ट में टॉप पर ले जाने वाले सबसे सफल कप्तानों में से एक हैं.’ प्रधानमंत्री ने आगे लिखा, ‘इतिहास में आपका नाम महानतम क्रिकेट कप्तानों और शानदार विकेटकीपर के रूप में दर्ज होगा. मुश्किल घड़ी में भी डटे रहने और मैच खत्म करने का आपका स्टाइल, खासकर 2011 के वर्ल्ड कप फाइनल को आने वाली पीढ़ियां हमेशा याद रखेंगी.

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा है कि महेंद्र सिंह धोनी का नाम सिर्फ करियर के आंकड़ों और क्रिकेट जिताने वाली भूमिकाओं के लिए ही नहीं याद रखा जाएगा… उन्हें सिर्फ एक खिलाड़ी के तौर पर देखना अन्याय होगा. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रीय क्षितिज पर महेंद्र सिंह धोनी के छा जाने का भी जिक्र किया है. प्रधानमंत्री ने कहा, ‘एक छोटे टाउन से निकलकर राष्ट्रीय क्षितिज पर छाकर खुद को और भारत को गर्व का बोध कराया. आपके उभार और उसके बाद का आचरण उन करोड़ों युवाओं को प्रेरित करता है जो किसी सुविधाजनक स्कूल-कॉलेज या बड़े परिवार से नाता नहीं रखते, लेकिन उनमें ऊंचाइयों पर पहुंचने का टैलेंट है. आप एक महत्वपूर्ण उदाहरण हैं न्यू इंडिया की भावना का, जहां परिवार का नाम युवाओं का भाग्य तय नहीं करता, बल्कि खुद युवा अपनी पहचान बनाते हैं और अपना भाग्य तय करते हैं.’ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने महेंद्र सिंह धोनी को लिखे पत्र में कहा है, ‘जहां से हम आते हैं, तब तक कोई फर्क नहीं पड़ता, जब तक हम जानते हैं कि हम कहां हैं- यह वह भावना है जिसने युवाओं को प्रेरित किया है.’ प्रधानमंत्री मोदी ने 2007 के टी-20 वर्ल्ड कप का उदाहरण देते हुए महेंद्र सिंह धोनी के खतरा उठाने की शैली का भी जिक्र करते हुए उनके सशस्त्र सेनाओं के साथ जुड़ाव की भी सराहना की.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Show Buttons
Hide Buttons
%d bloggers like this: