बिहार में वज्रपात से 83 की मौत, भारी बारिश का रेड अलर्ट

यूं तो बिहार बाढ़ की विभीषिका के लिए पूरे भारतवर्ष में चर्चित है..जब जून और जुलाई महीने में मानसून की शुरूआत होती है तो नदियों के जलस्तर बढ़ने की वजह से खासकर उतर बिहार जलमग्न हो जाता है… लेकिन 25 जून की सुबह यही मानसून बिहारवासियों के लिए एक नई आफत बनकर टूट पड़ा जब मूसलाधार बारिश के साथ बज्रपात हुआ जिसने बिहार के लगभग 23 जिलों के 83 लोगों की जान ले ली और सैकड़ो को अपनी तपन से झुलसा दिया…।

सुबह का समय होने की वजह से किसान खेतो में रोपनी का कार्य कर रहे थे,तो कोई रास्ते से गुजर रहा था…जब तक सम्भल पाते तब तक बिजली का ठनका उनके ऊपर गिर चुका था… इस आफत ने सबसे अधिक गोपालगंज जिले को शोक में धकेल दिया है जहां सबसे अधिक 13 लोगो के मरने की खबर है…वहीं मधुबनी में 8,भागलपुर और सिवान में 6-6,पूर्वी चंपारण में 5 खगड़िया में भी 3 लोगो की जान जा चुकी है और सैकड़ों लोगो का विभिन्न अस्पतालों में इलाज जारी है…।

राज्य के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इस प्राकृतिक आपदा पर पीड़ित परिवारों के प्रति गहरी शोक संवेदना प्रकट की है,तथा मृतकों के आश्रितों को चार-चार लाख रुपये की अनुग्रह अनुदान राशि देने की घोषणा भी की है…। आपको हम बता दे कल ही मौसम विभाग ने पूरे राज्य में अगले 48 घण्टो के लोए अलर्ट जारी करने के साथ सलाह भी दिया था कि बिना वजह से बारिश में बाहर ना निकले…लेकिन तेज होती बारिश को देख किसान खुद को नही रोक पाए और खेतों में धान की रोपनी के लिए वो निकल पड़े,जिसका नतीजा उन्हें अपनी जाना देकर गंवानी पड़ी….

साथ ही आपको बता दें कि मौसम विभाग द्वारा जारी अलर्ट के अनुसार गुरुवार को अररिया और किशनगंज जिले को रेड जोन में रखा है। पूर्वी चंपारण, पश्चिमी चंपारण, गोपालगंज, सीवान सारण, मधुबनी, मुजफ्फरपुर, दरभंगा, वैशाली, शिवहर, समस्तीपुर, सुपौल, पूर्णिया, सहरसा और मधेपुरा को ऑरेंज जोन में रखा गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Show Buttons
Hide Buttons
%d bloggers like this: